Computer Kya hai – What is computer in Hindi 2022

Computer kya hai

Table of Contents

Computer क्या है | Introduction Of Computer

Computer kya hai

Computer kya haiComputer एक ऐसा Device जो हमारे लिए बहुत ही उपयोगी है | इसमें कोई सक नही है की अभी के समय में कंप्यूटर हमारे लिए कितना महत्वपूर्ण है | Computer ने पूरी दुनिया को बदल के रख दी है |

बिना Computer के हमारे जीवन ब्यापन बहुत ही कठिन होगा क्यू की आजकल हर घर में एक कंप्यूटर होता है और हम अपने सारे काम कंप्यूटर से करते है |

Computer हमारे जीवन को सहज बनाते है जिसके चलते हमारे टाइम भी ज्यादा Waste नही होता है |

कंप्युटर के जरिए हम आसानी से किसी से भी Communicate कर सकते हैं |

जिससे हम आज Computer कहते है वो एक Latin Word से उत्पन हुआ है जिसको Computare कहा जाता है और इसका मतलब होता है Calculate करना |

Computer तभी काम करता है जब हम Computer को कोई Instructions देते है और जो भी Instruction हम कंप्यूटर को देते है वो Second में कर देता है |

Computer का परिभाषा | Definition of Computer

Computer kya hai

Computer एक Electronic Device है जो Data Accept करता है उसके बाद उस Data को Process करता है उसके बाद जो Result आता है उसको Output की रूप में Screen पर Display करता है |

जब भी हम Computer को कोई Instruction देते है तो पहले वो उस Data को Accept करता है उसके बाद हमारे Instructions अनुसार उस Data को Process करता है और फिर हमे Result देता है |

Computer के पास इतना Ability होता है जो हमारे Data को Store, retrieve और Process कर सकता है |

Computer का फायदा | Advantage Of Computer

Computer kya hai

  • Computer 100% Accurate Device है जो हमे सटीक और सही जवाब देते है |
  • Computer के पास इतना Power होता है जो हमारे सारा Data को Store करके रख सकते है |
  • Computer एक बार में बहुत सारा काम कर सकता है |
  • Computer Simplex और Complex दोनो टाइप के Problem को Solve कर सकता है |
  • Computer के जरिए आप आसानी से किसी से भी Communicate कर सकता है

Computer का हानि | Disadvantage of Computer

Computer kya hai

  • Computer खुद से कोई भी Decision नही ले सकता है |
  • Computer बिना Human Instructions से कोई भी काम नही कर सकता है |
  • Computer को Trained Person ही चला सकता है कम से कम Basic जानकारी होना चाहिए |
  • अगर आप Computer को गलत Instructions दोगे तो कंप्यूटर भी आपको गलत Output देगा |

Computer की विशेषताएँ | Characteristics of Computer

Computer kya hai

High Speed

क्या आप जानते है Computer कोई भी Calculation को इंसान से पहले कर देता है | अगर आप एक बार में कंप्यूटर को 1 लाख Calculation भी करने दोगे तो कंप्यूटर उसको Less then 1 Second में Solve कर देगा | इससे पता चलता है की कंप्यूटर की स्पीड कितना ज्यादा होता है |

Computer के Calculation Speed Atto second में होता है जो की 1× 10^-18 Second है |

Accuracy

Computer हमेशा 100% Accurate Result देता है | Computer को Accurate Machine भी कहा जाता है
एक बात आपको हमेशा याद रखना होगा Computer आपको हमेशा सही जवाब देता है लेकिन अगर आप ही Computer को गलत Instructions दोगे तो उसका जवाब भी गलत आएगा |

Computer में एक Term होता है जिसको GIGO बोला जाता है इसका मतलब ये है की अगर आप Computer को Wrong Input दोगे तो उसका Output भी Wrong आएगा और अगर Correct Input दोगे तो उसका Output भी Correct आएगा |

Versatility

कंप्यूटर में आप एक बार में बहुत काम कर सकते हो | Computer Multiple Processing Device है जिससे आप एक बार में बहुत ज्यादा काम को Process कर सकते हैं |

Diligence

Computer कभी नही थकता है | जितना मर्जी आप कंप्यूटर में काम कर लो लेकिन कंप्यूटर को कभी भी Tired Feel नही होता है | आप जितना मर्जी कंप्यूटर में काम करो लेकिन कंप्यूटर को कभी भी Lazy, Bored नही होता है |

Memory

Computer एक ऐसा Device है जिसमे हमारे सारे Data Store हो सकता है |
Computer में आप KB, MB, GB, TB, PB, EB जैसे Storage Volume को Store कर सकते हैं |

Function of Computer

Computer kya hai

Computer के 4 Function होता है जो इस प्रकार है |

Input

जब भी हम Computer को कोई Instruction देते है तो उससे Input कहा जाता है | Computer को कोई भी Instruction देने के लिए Keyboard और Mouse का उपयोग किया जाता है |

Process

जब भी हम Computer को कोई भी Instruction देते है तो Computer उसको Process करता है इसी को Process कहा जाता है | Computer हमारे Instruction को Process करने के लिए CPU का इस्तमाल करते है |

Output

जब हम Computer को कोई Task देते है तो सबसे पहले वो उसको Process करता है और उसके बाद जो Result आता है उसको Output कहा जाता है | Output हमे Monitor पे देखने को मिलते है |

Storage

Storage Device एक Hardware है जिसके अंदर हमारे Data Store होता है | Computer में दो तरह से Data Store होता है , एक है Permanent Store और दूसरा है Temporary स्टोर | किसी भी Data को Permanent Store करने के लिए Secondary Device का use किया जाता है |

Computer का उपयोग | Application Area of Computer

Computer kya hai

Computer का उपयोग हर क्षेत्र में होता है| चाहे Hospital हो , चाहे बैंक हो Computer हर जगह use होता है क्यू की कंप्युटर के जरिए हम कोई भी काम फास्ट में कर सकते है | अगर Computer का उपयोग की बात करे तो कंप्यूटर का उपयोग इस जगह पे होता है जैसे की

Education क्षेत्र में
Bank क्षेत्र में
Entertainment क्षेत्र में
Hospital क्षेत्र में
Scientific Work क्षेत्र में

इन जगह पे कंप्यूटर का उपयोग ज्यादा तर किया जाता है |

कंप्यूटर का पीढ़ी | Generation Of Computer in Hindi

Computer kya hai

अब बात करते है Computer के Generation के बारे में | अभी तक में कंप्युटर का 5 Generation आया है जो इस प्रकार है |

First Generation Of Computer:-

First Generation के कंप्यूटर भारत में 1940 Ad से लेकर 1956 Ad तक था |

First Generation के कंप्यूटर में Vacuum Tubes का इस्तमाल हुआ है |

First Generation के Computer में Machine Language का use किया गया था |

क्या आपको पता है जो First Generation Computer बनने के पीछे Vacuum Tubes का बहुत बड़ा योगदान था इसलिए कंप्यूटर बना था

First Generation में और भी कही Computer बना था जिसका नाम है ENIAC, EDSAC, UNIVAC -I , EDVAC, IBM 701 और IBM 650

Features Of First Generation Computer

  • First Generation Computer का Size बहुत बड़ा था
  • First Generation Computer में Vacuum Tubes का इस्तमाल किया गया था
  • First Generation Computer के Operating System Low था
  • First Generation Computer में Machine Language का use हुआ था
  • First Generation Computer चलाने में बहुत ज्यादा Electricity Power की जरूरत पड़ती थी
  • First Generation Computer को Maintain करने में मुश्किल होती थी

Second Generation Of Computer:-

Second Generation Computer भारत में 1956Ad से लेकर 1963Ad तक चला था

Second Generation Computer में Transistors का use किया गया था |
Transistors को John Bardeen, Walter Brattain और William Shockley ने मिलकर बनाया था 1947 Ad में |

Second Generation Computer में Vacuum Tubes को हटा कर Transistors का use किया गया था |

Transistors Size में Vacuum Tubes से छोटा था इसलिए वो कम Electricity use कर ता था और Transistors का Operating System भी First Generation से बेहतर था |

Transistors में ज्यादा Wire का भी इस्तमाल नही होता था इसलिए वो ज्यादा Heat भी नहीं होता था और तो और Transistors को बनाने में कम पैसे लगता था |

Second Generation Computer Size में भी छोटा था Compare to First Generation |

Second Generation Computer में Assembly Language और High Level Language का use किया गया था |

Second Generation में और भी कही Computer बना था जिसका नाम है IBM 7070, IBM 1620 , IBM 1401, CDC 1604, ICL 1901 |

Features of Second Generation of Computer

  • second Generation में Transistors का उपयोग किया गया था
  • second Generation Computer First Generation Computer से Size में छोटा था
  • second Generation Computer में Assembly Language और High Level Language का use किया गया था
  • Second Generation Computer Less Electricity लेता था और कम Heat Produce करता था
  • Operating का स्पीड भी बहुत ज्यादा था

Third Generation of Computer:-

Third Generation Computer का उपयोग सन 1964 से लेकर 1971 के बीच में किया गया था |

Third Generation Computer में integrated Circuit ( IC) का इस्तमाल किया गया था जिसको Jack kilby ने बनाया था |

Third Generation Computer 1964 Ad में ही बन गया था लेकिन इसका इस्तमाल 1965 से हुआ था |

Third Generation में integrated Circuit ( IC) का use इसलिए हुआ था क्यू की IC का Price भी कम था और IC के Size भी छोटा था इसलिए integrated Circuit ( IC) का use किया गया था |

Third Generation के Computer Size में छोटा था और इस टाइप के Computer का Price भी बहुत कम था इसलिए बहुत लोग इसको Afford कर सकता था |

Third Generation Computer में Large Memory लगा हुआ था और इस Computer के Processing Speed बहुत ही ज्यादा था |

इस computer का उपयोग वैज्ञानिक और बिजनेस दोनो तरह के कामों के लिए किया जाता था |

Third Generation Computer में Low Level और High Level Language का इस्तमाल किया गया था |

Features Of Third Generation of Computer

  • Third Generation Computer में integrated Circuit ( IC) का Use हुआ था
  • Primary Storage के रूप में Semiconductor Device का उपयोग हुआ था
  • Third Generation Computer के Operating Speed Nanosecond में है
  • Third Generation Computer पिछले 1st और 2nd Generation Computer से छोटा था और price भी कम था और चलाने में भी अच्छा लगता था

Fourth Generation of Computers:-

Fourth Generation Computer का उपयोग 1971 Ad से लेकर अभी तक उपयोग किया जा रहा है |

आज कल हम जो भी Computers इस्तमाल करते है ज्यादा तर वो Fourth Generation का ही होता है |

Fourth Generation Computer में Microprocessor Chip का उपयोग किया गया है जिसको Intel Corporation ने बनाया है|

इस टाइप के Computer को Micro Computer कहा जाता है |

Features Of Fourth Generation Computer

  • Fourth Generation Computer में Microprocessor Chip का उपयोग हुआ है
  • Fourth Generation Computer में बहुत ज्यादा Storage Volume है और Processing Speed भी बहुत ज्यादा फास्ट है
  • Fourth Generation Computer Start होने में बहुत ही कम समय लगता है
  • Fourth Generation Computer आसानी से High Level Language समझता है
  • Fourth Generation Computer Size में भी छोटा होता है

Fifth Generation Computer:-

Fifth Generation Computer 1991 Ad के समय से ही बनना सुरु होगया था | इस कंप्यूटर में Hardware और Software के जरिए Artificial Intelligence (AI) लगा हुआ है |

अभी तक Fifth Generation Computer भारत में बन ही रहा है और फ्यूचर में हमारे देश में भी ऐसा कंप्युटर आएगा जिसमे AI Super brain लगा हुआ होगा |

इस कंप्यूटर में Optic Fiver लगा हुआ रहता है ताकि AI, Robots को Handle कर सके

Features of Fifth Generation Computer:-

  • इस कंप्युटर में Bio Chips और ULSI का use होता है
  • इस कंप्यूटर में Artificial Intelligence (AI) लगा हुआ होता है
  • ये कंप्यूटर दुनिया के बड़े से बड़े प्रोब्लम को Solve कर सकता हैं |
  • इस Computer में Automatic Program किया होता है
  • ये कंप्युटर Storage unit के रूप में Super Conductor को use करता है

Types Of Computer | कंप्यूटर के प्रकार

Computer kya hai

कंप्युटर को 4 भाग में बाटा गया है |

1. काम के आधार में :- काम के आधार में कंप्यूटर को 3 भाग में बाटा गया है |

(a) Analog Computer
(b) Digital Computer
(c) Hybrid Computer

2. Size के आधार में:- Size के आधार में कंप्युटर को 4 भाग में बाटा गया है |

(a) Super Computer
(b) Mainframe Computer
(c) Mini Computer
(d) Micro Computer

3. Brand के आधार में
4. Model के आधार में

Analog Computer

जो कंप्युटर Analog तरीका से Data को Process करता है उससे ही Analog Computer कहता है | Analog Computer का उपयोग Scientific काम , Medical और Industrial काम के लिए किया जाता है |

Features Of Analog Computer:

इस तरह के कंप्यूटर को Specific Task के लिए बनाया जाता है |

इस Computer में Memory Space Limited होता है |

इस Computer के Accuracy बहुत ही Poor होता है इसका मतलब ये की ये Computer गलत Result भी दे सकता है

ये Computer कोई भी Complex Calculation नही कर सकता है |

Digital Computer:- एक ऐसा कंप्युटर जो Digital Value 0 और 1 के जरिए काम करता है उससे ही Digital Computer कहा जाता है जहा पर 0 का मतलब Off होता है और 1 का मतलब On होता है |

Features Of Digital Computer:

इस तरह का Computer का उपयोग General Purpose के लिए कहा जाता है

ये कंप्युटर Analog Computer से ज्यादा Fast होता है

ये कंप्युटर ज्यादा Accurate Information देता है |

Hybrid Computer

एक ऐसा कंप्यूटर जिसमे दोनो Analog और Digital का फिचर्स होता है उससे Hybrid Computer कहा जाता है |

Features Of Hybrid Computer:

ये कंप्युटर महंगे होते है

ये Computer Special work के लिए बनाया जाता है

इस कंप्यूटर को चलाने में थोड़ा सा Hard होता है |

Super Computer

एक ऐसा कंप्युटर जो दुनिया के सबसे ज्यादा Powerful और सबसे ज्यादा Fast में चलता है उसको ही Super computer कहा जाता है |

इस कंप्यूटर में आप कोई भी काम बहुत ही आसानी के साथ कर सकते है वो भी बहुत ही कम समय में |

Super computer के फीचर्स:

ये कंप्यूटर बहुत ही महंगा है

इस कंप्युटर में Special काम किया जाता है

इस कंप्यूटर में मौसम को Forecast और Global Climate को दिखाया जाता है

इस तरह के कंप्यूटर को Aircraft, automobile, Space Craft में use किया जाता है |

इस कंप्यूटर का उपयोग Military Research और Defense System के लिए किया जाता है |

Mainframe Computer

ये एक ऐसा कंप्यूटर है जो Size में बड़ा है और उसी के साथ Powerful कंप्यूटर भी है |

ये कंप्यूटर इसलिए बनाया गया है ताकि जो बड़े बड़े समस्या होता है उसको ठीक किया जा सके |

इस कंप्यूटर का उपयोग बड़े बड़े Organization करता है और इस कंप्यूटर के खास बात ये है की ये कंप्यूटर एक बार में बहुत सारा Data को Process कर सकता है वो भी High Speed में |

इस कंप्यूटर में एक बार में एक साथ 100 से ज्यादा लोग काम कर सकता है |

Mini Computer

जैसे की इस कंप्यूटर के नाम से ही पता चलता है की Mini Computer इसका मतलब ये है की ये कंप्युटर Super computer और Mainframe Computer से Size में भी छोटा होता है और कम Powerful होता है

इस कंप्यूटर में एक बार में 12 से 15 लोग काम कर सकता है |

इस कंप्यूटर में High Level Language का इस्तमाल किया गया है |

Micro Computer

जो कंप्यूटर अभी हम अपने घर में चलाते है उसको Microcomputer कहा जाता है | इस कंप्यूटर को Personal कंप्यूटर भी कहा जाता है और आज कल तो घर घर में Microcomputer होता है |

Microcomputer का Size छोटा होता है और Price भी कम होता है इसलिए हर कोई इस कंप्यूटर को खरीद सकता है |

2021 में सबसे पॉपुलर Microcomputer का नाम है Laptop, Palmtop Computer, Multimedia Computer, Personal Digital Assistant ( PDA)

Introduction to Computer System

Computer kya hai

Input Devices

ये एक ऐसा Device है जिसके द्वारा हम कंप्यूटर को Instruction देते है जैसे की Keyboard, Mouse के जरिए हम कंप्यूटर को Instruction देते है और उसके बाद कंप्यूटर उस काम को करते है

CPU

CPU को कंप्युटर का Brain भी कहा जाता है क्यू की कंप्यूटर को क्या करना है कैसे करना है वो सब CPU ही बताता है |
जिस तरह इंसान को उसके Mind कंट्रोल करता है उसी तरह कंप्यूटर को CPU कंट्रोल करता है |

CPU में भी 3 unit होता है जैसे की

  1. Control Unit
  2. Memory Unit
  3. Arithmetic Logical Unit

ये तीनो मिलके कंप्यूटर को चलाता है इसलिए CPU को Brain और Heart of Computer कहा जाता है |

Output Unit

जो भी Result हम कंप्युटर पे देखते है उसको Output कहा जाता है |जैसे की अगर आप कुछ Type करोगे तो उसका Result कहा पर Show होगा Monitor पर ना इसलिए Monitor को Output Device कहा जाता है |

और भी Output Devices होता है जैसे की Printer, Plotter , Speaker

Storage Unit

जो भी Storage Device Computer में हम बाहर से लगाते है उसको Storage Unit कहा जाता है जैसे की CD, DVD, Pen Drive, Memory Card ये सबको External Device और Secondary Memory कहा जाता है क्यू की इससे हम बाहर से लगाते है ये सब पहले से कंप्यूटर में नही दिया होता है |

Introduction to Computer Hardware और इसके प्रकार

Computer kya hai

सबसे पहले हम जानते है की Hardware किस्से कहा जाता है , जो भी Device को हम Touch कर सकते है और Feel कर सकते हैं उसको Hardware कहा जाता है जैसे की Keyboard, Monitor, Mouse, Computer Case, Hard disk Etc. ये सबको Hardware कहा जाता है |

Keyboard

Keyboard को Input Device कहा जाता है जिसके जरिए हम कोई भी Alphabet, Number और Characters को Type कर सकते हैं |

पहले के जमाना में जो Typewriter हुआ करता था बिलकुल उसी तरह से आजका Keyboard काम करता है |

Keyboard का काम ये होता है की हम Keyboard के हेल्प से कंप्यूटर को कोई Instruction दे सकते है |

कीबोर्ड मे 5 तरह के Keys होता है |

Typing Keys

इस Keys में (A – Z ) से लेकर ( 0 – 9 ) Keys होता है |

Numeric Keypad

इस Keys में 17 Keys होता है जिससे हम नंबर टाइप कर सकते हैं |

Function Keys

इस Keys में F1,F2,F3 से लेकर F12 तक का Keys होता है |

Control Keys

इस Keys में Ctrl, Alt, Esc, Home, End, Insert, Delete, Page up, Down Keys होते है |

Special Purpose Keys

इस Keys में Enter, Shift, Caps Lock ,Num Lock, Space bar, और Tab Keys होते है |

Mouse

Mouse एक Small Handheld Device है जिसके द्वारा Computer Screen में कोई भी भी काम किया जाता है |

Mouse को Pointing Device भी कहा जाता है |

माउस में आप 3 काम कर सकते हो , Click, Double Click और Drag कर सकते हैं |

आजकल Laser और Optical Mouse ज्यादा प्रचलित है |

Monitor

Monitor को Softcopy Output Unit कहा जाता है क्यू की जो भी Result हम Monitor पर देखते है वो Time to Time बदल ता रहता है

जो भी Output हम Monitor पर देखते है उसको हम Edit और Modify भी कर सकते है |

Monitor का 3 Types होता है |

Cathode Ray Tube ( CRT ) :- पहले के जमाना में CRT Technology का use होता था | CRT Heavy और बहुत ज्यादा बिजली का Use करता था |

LCD :- आज कल के समय में ज्यादा तर Use होने वाले Technology LCD है |

LED :- आज कल के समय में ज्यादा तर Use होने वाले Technology LED है |

Printer

Printer एक ऐसा Device है जिसका इस्तमाल Photocopy करने के लिए किया जाता है | Printer भी 2 Types के होते है |

Impact Printer
Non Impact Printer

Speaker

Speaker एक ऐसा Device है जो कंप्यूटर से Connected होता है और उसके द्वारा हम Sound सुन सकते हैं |
Speaker को Cable के जरिए कंप्यूटर में Connect किया जाता है |

Hard disk

कंप्यूटर के दुनिया में Hard disk सबसे ज्यादा पॉपुलर Storage Device है क्यू की Hard disk के जरिए हम अपने Data को Store करके रख सकते है

हम जो भी Software, प्रोग्राम कंप्युटर में इंस्टॉल करते है वो सब के Data Files Hard disk में Store होता है |

Hardisk मे हमारे जितने भी Document, Graphics, Audio, Video, सबके सब Store होता है |

Pen Drive

Pen Drive एक Secondary Device है जिसका काम किसी भी Data को Store करना होता है |

pen Drive सबसे ज्यादा use होने वाले Secondary Device है |

Introduction to Computer Software

Computer kya hai

Software एक ऐसा Tool है जिसके द्वारा Computer Hardware को कंट्रोल किया जाता है | Software प्रोग्राम करके बनाया जाता है जिसके द्वारा हम कोई भी Specific काम कर सकते हैं | Software द्वारा कंप्यूटर और यूजर Interact कर सकते है | सॉफ्टवेयर कंप्यूटर को ये बताता है की क्या करना है और कैसे करना है |

Software की प्रकार

Software को 2 भाग में बाटा गया है |

  1. System Software
  2. Application Software

System Software:

ये एक ऐसा Software है जिसके द्वारा कंप्यूटर को Operate, Control और Processing किया जाता है | System Software Computer Hardware को कंट्रोल किया जाता है |

System Software का काम ये है की जब भी कोई यूजर कंप्यूटर के कोई Program को चलाना चाहते है तो वो उससे आसानी से चला पाए |

System Software के द्वारा कंप्यूटर System को Operate किया जाता है |

System Software के फीचर्स :-

Speed को Fast करना
System Software Low Level Language में लिखा जाता है

System Software के प्रकार:-

System Software को 2 Types में बाटा गया है |

  1. Operating System Software
  2. Utility Software

Operating System Software

Operating System Software को इस तरह से बनाया जाता है ताकि इसके द्वारा Computer Hardware के सारे काम को कंट्रोल किया जा सके |

क्या आप जानते है बिना Operating System के हम कोई भी Application को कंप्यूटर में use नही कर सकते है |

Operating System Software के द्वारा Processing Unit, Primary Memory, Virtual Memory, Input Device, Output Devices को Manage किया जाता है |

Operating System Software Computer को ये Allow करता है की आप एक बार में जितना मर्जी Application को Run कर सकते हो |

Utility Software

इस Software को इसलिए बनाया गया है ताकि कंप्यूटर को Maintain किया जा सके | Utility Software के जरिए हम कंप्यूटर के Files, Folder को Manage कर सकते हैं और इसके द्वारा हम ये भी पता कर सकते है की हमारे कंप्यूटर में कोई Virus तो नही है |

Utility Software Computer को Clean और Healthy रखने में हेल्प करता है |

Utility Software के द्वारा कोई भी Disk, Antivirus Program, Language Processor को Scan कर सकते हैं |

Application Software

Application Software को कोई भी Specific काम करने के लिए बनाया जाता है | Application Software को हम तभी उपयोग कर सकते है जब हमारे कंप्यूटर में Operating System Software है |

Application Software के द्वारा यूजर और कंप्यूटर के बीच Interact हो पता है |

Application Software High Level Language में लिखा जाता है |

Application Software Size में बड़ा होता है और ये Software Storage भी ज्यादा Consume करता है |

Application Software के प्रकार:-

Application Software को 2 भाग में बाटा गया है |

  1. Packaged Software
  2. Tailored Software

Full Form Of Computer:

Computer kya hai

C – Commonly
O – Operated
M – Machine
P – Particularly
U – Used For
T – Training
E – Education
R – Research

Computer का अबिस्कार किसने किया ?

Computer kya hai

कंप्यूटर का अबिस्कर Charles Babbage ने किया था | Charles Babbage का जन्म सन् 1971 , 26 December को हुआ था | Charles Babbage के जन्म London के South wark में हुआ था |

Charles Babbage एक महान MathMatician और Computer Scientist था |

कंप्यूटर से हम क्या कर सकते हैं?

Computer kya hai

  • कंप्यूटर एक ऐसा Device है जिसके द्वारा हम बहुत कुछ कर सकते है | कंप्यूटर के जरिए हम प्रोग्रामिंग और कोडिंग कर सकते है
  • कंप्यूटर के जरिए हम कोई भी ऑफिस के काम कर सकते है |
  • कंप्यूटर के जरिए हम कोई भी अपने सभी File, Data, Photos/Videos को Store करके रख सकता है |
  • कंप्यूटर के जरिए हॉस्पिटल, Airpot में काम किया जाता है |
  • कंप्यूटर के जरिए हम टाइपिंग कर सकते है |
  • कंप्यूटर के जरिए हम अपने सभी काम कर सकते है |
  • कंप्यूटर का उपयोग Education क्षेत्र में होता है |
  • कंप्यूटर का उपयोग Bank क्षेत्र में होता है |
  • कंप्यूटर का उपयोग Entertainment क्षेत्र में होता है |
  • कंप्यूटर का उपयोग Hospital क्षेत्र में होता है |
  • कंप्यूटर का उपयोग Scientific Work क्षेत्र में होता है |

Computer Shortcut Keys in Hindi

Computer kya hai

Ctrl + A= एक बार में सभी को Select करना

Ctrl + B= किसी भी Text को Bold करना
Ctrl + C= किसी भी Text को कॉपी करना
Ctrl + D= Font के आप्शन देखना
Ctrl + E= Text को Align Select करना
Ctrl + F= Find Box Open करने के लिए

Ctrl + G=Text को Find करना और Replace करना

Ctrl + H=Text को Find करना और Replace करना

Ctrl + I= Selected Text को Italicize करना

Ctrl + J= Paragraph Alignment को Justify करना

Ctrl + K= लिंक Insert करने के लिए

Ctrl + L= Selected Text Line को Left करने के लिए

Ctrl + M= Paragraph को Indent करने के लिए

Ctrl + N= New Document के लिए
Ctrl + O= Open करने के लिए

Ctrl + P= Selected Text Paste करने के लिए

Ctrl + Q= Align Selected Paragraph को Left करने के लिए

Ctrl + R= Selected Text Line को right करने के लिए

Ctrl + S = Save करने के लिए

Ctrl + T= Hanging Indent करने के लिए

Ctrl + U= Selected Text को Underline करना

Ctrl + V= Paste करने के लिए

Ctrl + W= Document Close करने के लिए

Ctrl + X= Selected Text को Cut करने के लिए

Ctrl + Y= Redo करने के लिए
Ctrl + Z= Undo करने के लिए

Computer Related Term:

Computer kya hai

Recycle Bin

Recycle Bin Computer का बहुत ही महत्पूर्ण Software है जिसके द्वारा हम अपने Deleted Files/Data को फिर से Backup कर सकते हैं |

कभी कभी हम गलती से कोई चीज को Delete कर देते है और बाद में हमे उसके जरूरत पड़ जाता है तो उसको Recover करने के लिए Recycle Bin का उपयोग किया जाता है |

Recycle Bin के जरिए Deleted Photo/Videos और Files को वापस लिया जा सकता है |

Command Prompt

Command Prompt एक बहुत ही Important Tools है जिसके द्वारा आप अपने कंप्यूटर को Command देकर कोई भी काम करा सकते है |

Command Promote को use करने के लिए आपको Coding ज्ञान का जरूरत पड़ता है क्यू की बिना कोडिंग के Cmd नही चला सकते है |

Command Promote के जरिए आप अपने कंप्यूटर में कोई भी काम कर सकते है लेकिन थोड़ा बहुत Cmd चलाना आपको आना चाहिए |

Folder/File

अगर आपने कभी कंप्यूटर का इस्तमाल किया होगा तो आपको Folder और File के बारे में जरूर पता होगा | कंप्यूटर में आसानी से Folder Create किया जा सकता है और उस फोल्डर के अंदर आप कोई भी चीज को Save करके रख सकते है |

Control Panel

कंट्रोल पैनल कंप्यूटर का वो सेटिंग है जिसके द्वारा पूरा कंप्यूटर को Manage कर सकते है
Control Panel में कंप्यूटर का सभी Setting दिया होता है | कंट्रोल पैनल के जरिए आप अपने कंप्यूटर के कोई भी Setting को Change और मोडिफाई कर सकते है |

Browser

Browser के जरिए आप कोई भी Search Engine जैसे की Google, Bing, Yandex पे जा के सर्च कर सकते है |
लेकिन ब्राउजर का इस्ताम तभी ही हो सकता है जब आप इंटरनेट से Connected है |

Antivirus Software

Computer को सुरक्षित रखने के लिए हमे अपने कंप्यूटर में Antivirus Software रखना परता है क्यू की आज कल के समय में हमे नही पता होता है की कौनसे Virus कब हमारे कंप्यूटर में आजाये इसलिए इस सबसे Protect करने के लिए हमे Antivirus Software रखना पड़ता है |

Windows

Windows एक ऑपरेटिंग सिस्टम है जिसके द्वारा ही हमारे कंप्यूटर चलता है | Windows को Microsoft ने बनाया है इसलिए Microsoft Windows कहा जाता है | Windows हमारे कंप्यूटर में उतना ही जरूरी है जितना जरूरी शरीर के लिए आत्मा का होता है |

Firewall

हमारे कंप्यूटर में Windows के तरफ़ से Firewall दिया होता है इसके द्वारा हमारे कंप्यूटर वायरस से सुरक्षित रहता है | Firewall को High Level Security माना जाता है इसलिए हमारे कंप्यूटर सुरक्षित रहता है |

CD/DVD

कंप्यूटर के दुनिया में CD/DVD का इस्तमाल इसलिए होता है ताकि आप CD को अपने CPU में लगाकर उसके भीतर में जितना भी Data है उसको आप देख सकते है, Save कर सकते हैं, Delete कर सकते हैं या फिर कुछ Add कर सकते हैं |

Pen Drive

Pen Drive को आप अपने कंप्यूटर में लगाकर उसके अंदर के Data को देख सकते है, Save कर सकते हैं, Delete कर सकते हैं या फिर कुछ Add कर सकते हैं |

Pen Drive को आप Bootable भी बना सकते है |

Program

Computer के जरिए आप कोई भी प्रोग्राम बना सकते है और जितना भी कोडिंग है वो सब आप अपने कंप्यूटर के हेल्प से सीख सकते है |

कंप्यूटर के जरिए आप वेबसाइट बना सकते है, एप बना सकते हैं और भी बहुत से काम कर सकते है |

Bug

Bug का मतलब होता है Error क्यू की जितना भी प्रोग्राम/System होता है उसमे कोई ना कोई कमी तो जरूर ही होता है इसी को Bug कहा जाता है , कमी होना |

कंप्यूटर के Famous Software के नाम ?

Computer kya hai

1. MS Word
2. Excel
3. MS Office
4. MS PowerPoint
5. Internet Explorer
6. Photoshop

Best Computer Course कौनसा है ?

Computer kya hai

1. Website Designing/Developer
2. Software Development
3. Cyber Security
4. Cloud Computing
5. IT
6. BCA
7. Artificial Intelligence ( AI )
8. Game Development
9. Data Analyst
10. Data Science

Introduction to Storage Device

Computer Kya hai - What is computer in Hindi 2022

Storage Device एक Hardware device है जिसका काम Data को Store और Extracting करना है |

Storage Device दो तरह से Data को Store करता है या तो Temporary store करता है या फिर Permanently Store करता है |

कंप्यूटर में दो तरह का Storage Device होता है या तो Internal Device या फिर External Device जैसे की Pen Drive external device है |

Storage Device की प्रकार

Storage Device 2 प्रकार का होता है |

1. Random Access Memory ( RAM)
2. Read Only Memory ( ROM )

RAM:- RAM एक पॉपुलर Volatile Memory है जिसको Temporary Memory भी कहा जाता है | RAM का और भी बहुत नाम है जैसे की Main Memory, Primary Memory, और System Memory |

RAM एक hardware Device है जिसका काम ये है की कोई भी Data और Information को Store करना और जब आप चाहो तब उसको Retrieved कर सकते है

RAM भी दो प्रकार का होता है

1. Dynamic Random Access Memory ( DRAM)

2. Static Random Access Memory ( SRAM )

ROM:- ROM एक पॉपुलर Non Volatile Memory है जिसको Permanent Memory भी कहा जाता है | ROM में जितना भी Information होता है उसको आप सिर्फ Read कर सकते हैं क्यू की ROM में Modify करना बहुत ही कठिन होता है | ROM में जो भी Data एक बार चला जाए वो फिर Permanently उसमे Store हो जाता है |

ROM भी दो प्रकार का है

1. EPROM
2. EEPROM

Secondary Storage Devices:- Secondary Storage Device में बहुत ज्यादा Storage Capacity होता है और जो भी Data Secondary Storage में डाला जाता है वो Permanently Store हो जाता है
Secondary Device में Internal और External दोनो Devices होता है |

Hard disk:- Hard disk को Hard Drive भी कहा जाता है | Hard disk एक Non Volatile Memory है जिसमे Permanently Data Store होता है | Hard disk Motherboard से Connected होता है जिसको ATA, SATA Cable से Connected किया जाता है |

Memory Card:- Memory एक Storing Device है जिसमे ज्यादा तर Photos, Videos को Store किया जाता है | Memory card को Flash Memory Card भी कहा जाता है | Memory Card जिस Device में use होता है उसका नाम है Digital Camera, मोबाइल, Mp3 Player, PDAs, Printers, Game Console आदि |

Floppy Disk:- Floppy Disk भी एक Storing Device है जो Electronic Data को Store करता है जैसे की Computer File
Floppy Disk को IBM ने 1967 मे बनाया था
Floppy Disk एक बहुत छोटा सा Storing Device है जिसमे सिर्फ MB में Data Store हो सकता है | 2022 में Floppy Disk बहुत ही कम पाया जाता है क्यू की लोग आज कल Pen Drive का ज्यादा इस्तमाल करता है |

Pen Drive:- Pen Drive एक Portable Storage Device है जिसको USB Port के जरिए कंप्यूटर में Connect किया जाता है |
Pen Drive को USB Flash Device भी कहा जाता है | Pen Drive में आप 1 GB से लेकर 1 TB तक का Data को Store करके रख सकते है |अभी के समय में Pen Drive सबसे ज्यादा use होने बाला External Storing Device है |

Introduction to Operating System

Computer Hardware जो भी Functions Perform करता है उसको Operating System Manage करता है |

Operating System और भी device को Manage करता है जैसे की CPU, Input/Output Devices और Secondary Storage Devices |

Operating System एक बहुत ही Important System है जो कंप्यूटर को चलाने में हेल्प करता है |

किसी भी कंप्यूटर में कोई भी Software use करने के लिए उसमे Operating System जरूर होना चाहिए क्यू की बिना Operating System का कोई भी Program Computer में नही चल सकता है |

आजकल जो पॉपुलर Operating System है उसका नाम है Windows, Linux , Mac os

Operating System का काम ये होता है की किसी भी Tasks को Control करना, Memory को Allocating करना , Instruction को Processing करना , Input और Output Devices को कंट्रोल करना , Files को Manage करना |

Operating System का Functions:-

Operating System Hardware और Software को Control करता है

Operating System Primary और Secondary Memory को Control करता है

Operating System सभी Input Device और Output Devices को Manage करता है

Types of Operating System | Operating System की प्रकार

Operating System 5 प्रकार की होती है

1. Single-user, Single Task Operating System :- इस टाइप के Operating System में एक बार में सिर्फ एक लोग काम कर सकता है और ये operating system एक बार में सिर्फ एक काम करता है |

2. Single-user , Multi Task Operating System :- इस टाइप के ऑपरेटिंग सिस्टम में एक बार में बहुत काम कर सकता है |

3. Multiuser Operating System :- इस टाइप के ऑपरेटिंग सिस्टम में एक बार में बहुत लोग काम कर सकता है |

4. Multiprocessing Operating System:- इस टाइप के ऑपरेटिंग सिस्टम में एक बार में बहुत काम Processing होता है क्यू की इसमें 2 Processor लगा रहता है |

5. Embedded Operating System :- इस टाइप के Operating System ज्यादा तर Traffic Control में लगा रहता है, Washing machine में लगा रहता है |

Computer को कैसे Operate किया जाता है ?

कंप्यूटर को Operate करने के लिए इस Step को फॉलो करे |

सबसे पहले अपने Monitor का Cable को अच्छे से CPU से Connect करे

उसके बाद Cable को Power Socket से Connect करे

उसके बाद CPU और Monitor Power Button को Press करे

उसके बाद आपका कंप्यूटर Operate होने लगेगा

Computer में Folder कैसे बनाए ?

कंप्यूटर में Folder बनाने के लिए इस Step को फॉलो करे |

सबसे पहले Desktop में Blank Area में Right Click करे

उसके बाद New पर क्लिक करें

फिर Folder को Select करे

उसके बाद Folder का नाम लिखे और फिर Enter Key Press करे

इतना करने के बाद आपका Folder बन जाएगा

Computer में File कैसे बनाए ?

कंप्यूटर में File बनाने के लिए इस Step को फॉलो करे |

सबसे पहले Desktop में Blank Area में Right Click करे

उसके बाद New पर क्लिक करें

फिर File को Select करे

उसके बाद File का नाम लिखे और फिर Enter Key Press करे

इतना करने के बाद आपका File बन जाएगा

कंप्यूटर में File/Folder Rename कैसे करे ?

जिस भी फाइल और फोल्डर को Rename करना चाहते हैं उस पर Right Click करे

उसके बाद Rename पर क्लिक करें

फिर जो भी नाम लिखना है वो लिखे और Enter key को Press करे

इतना करने के बाद आपका फाइल फोल्डर का नाम Change होजाएगा |

कंप्यूटर में File/Folder Delete कैसे करे ?

सबसे पहले जिस भी फाइल और फोल्डर को Delete करना है उस पर Right Click करे

फिर Delete पे क्लिक करे

उसके बाद आपका File Folder Delete होजाएगा और Recycle Bin में चला जायेगा

Computer में Deleted File Folder को कैसे Restore करे ?

सबसे पहले Recycle bin को Open करे

फिर जिस भी चीज को Restore करना है उस पर Right Click करे

उसके बाद Restore पर क्लिक करें

इतना करने के बाद वो Restore होजाएगा

QNA About Computer – जो अक्सर हमसे पूछते है

1. What is computer in Hindi ?

Computer एक Electronic Device है जो Data Accept करता है उसके बाद उस Data को Process करता है उसके बाद जो Result आता है उसको Output की रूप में Screen पर Display करता है |

2. Meaning of Computer In Hindi

Computer को हिंदी में संगणक कहा जाता है |

3. Computer In Hindi Meaning

Computer को हिंदी में अभिकलक भी कहा जाता है |

4. Computer Hindi Meaning

Computer को हिंदी में अभिकलित्र भी कहा जाता है |

5. Computer Meaning In Hindi

अभिकलित्र, अभिकलक, संगणक

Conclusion on Computer kya hai

आज हमने सीखा की कंप्यूटर किया है , और कंप्यूटर के जितना भी Term होता है मैने वो सब अपने पोस्ट में Include किया है |

अगर आपको हमारे पोस्ट पसंद आया हो तो अपने दोस्तो के साथ भी जरूर शेयर करे |

अगर आपको कंप्यूटर के बारे में और जानकारी चाहिए तो इस पोस्ट के कॉमेंट में जरूर बताएं |

मुझे उम्मीद है इस पोस्ट से आपको कंप्यूटर के बारे में काफी कुछ सीखने को मिला होगा

krishuzha

आप सभी का स्वागत है हमारे ब्लॉग Krishuzha.com पर | यहा पर आपको वेबसाईट, WordPress, Blogger ,SEO, एंड्रॉयड App Development, Technology और कंप्यूटर के Related Content मिलेंगे | अगर आप वेब Developer बनना चाहते हो तो आपको हमारे ब्लॉग पर Basic से Advance तक सिख सकते हो | मैने इस ब्लॉग पर हर एक Topic cover किए है जो वेबसाइट के Related है और मुझे उम्मीद है की आप सबको हमारे Content जरूर पसंद आएंगे |

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: